Popular Posts

Blogger templates

Blogger news

Blogroll

About

Powered by Blogger.
Thursday, 8 March 2018

All the beautiful, awesome, fierce and <type other glossy adjectives that can flatter you> women! While you are receiving those flowers, cards, HR event invites, low quality GIFs and lengthy Whatsapp messages, are we really sure about what they are celebrating this day for? 

Getting into the cab this morning to go to work as usual and then receiving floods of women's day greetings while on the way made me uncomfortable. For a socially awkward person that's too much an attention getting messages from top brands, starting with my name and telling me to rush to the nearest store for discount. Am I really that special?

I am left wondering if I am any less woman the other days of the year than I am today? Yeah, maybe I need to be reminded that I am a woman! Because I face almost the same challenges everyday as anyone else which don't have much to do with me being a woman. Like my Uber driver cannot reach the destination even after being guided for half an hour, salary is sublimated within a week without passing through the phase of me realizing that I get paid for my work, the belly fat has its own growth path which is much focused and foolproof than my career, the billing date and payment cycle of credit card tangle with the salary day every month just like my earphones come out tangled every time I reach for them in my bag, banks are never open on the Saturdays I am available on and the never ending process of linking my entire existence to Aadhar. 

Ok, I agree there are other sort of struggles and challenges too, some are fighting their own family to live respectfully, some do not know how to raise voice against wrong, some can't get their eye liner straight, some have trouble pairing right shoes with the right dress and some have to carry their babies to work while passing the cement sack to the other laborer.

I am thankful that there is a dedicated day for celebrating our existence. Also, I am not denying that we do face many issues purely result of patriarchal thinking, sometimes strong enough to shake our confidence. And we are handling those very well, definitely not possible without the patient help from men.

But it makes me think, "don't men face their share of challenges and struggles in life?" Some of which maybe exclusive to being men and some common for both the genders. Then what is all this chaos about? Some women are fighting so hard for equality while some are advocating that women are greater than men. Some men are ashamed on the unfair treatment to women from other men while some do not understand why women need any rights in first place. Some women are contributing to science and society while others are exploiting the laws made for their own good.

Where are we going wrong as a society? I think one of the problems is that we try to put everyone and everything under a certain label, a generalized view. The idea of 'equality' or the idea of 'feminism' both have their importance and meanings justified if only used in right place and context. You try to make it a way of life or a general belief and it would become pain.

Now, why women are lost and confused? lost because since a very early age being a girl became their identity. They learnt that they're part of a fight going on from a long time.  Realizing something, realizing that women might not only belong to kitchen. And most of this realization was incubating within women themselves. Which gave them ultimate burden of drawing all of them women from kitchen and directly placing them in a fighter plane's cockpit. And at the same time gave them a sense of purpose. Then gradually the wave of empowerment became real and they felt that people are changing, the lives becoming less difficult, the gap between the challenges faced by men and women is shortening. And that left them empty, directionless. That extreme passion, anger and pain lost its path, and then women started picking their own fights to fill this gap.

This sudden blow of realization left a lot of ugly marks on our society like 'pseudo- feminism', men feeling left out, women exploiting the power and some story makers purely utilizing the emotions of this wave to sell their products. Some of these were created only to give a push to those left behind but people made them their identities and could never let go.

The problem was never the 'kitchen' it was the feeling of being limited that triggered us, and still does. No matter in what social or cultural condition she is, if a woman finds something is limiting her, she revolts. Be it a mini skirt, a voting power, choice of lifestyle, choice of contribution, right to work, right to not work; anything. It can be anything that she believes defines a woman's limits, she will pick it and fight. I agree that we have become desperate, desperate to create history by writing a story of freedom and transformation. We have believed that this cause defines us. So, we fight anything and everything. With all the appreciation for this courage in my heart, I think its time we choose our fights wisely. Because the idea was never to leave men behind or women behind, but it is to establish a balanced society by both men and women being the best of themselves.

Passion and pain are subjective, on a personal level someone's fight for wearing short clothes can be equally important to other person's fight for access to education. But do you really think that cause defines you? what is that stopping you from becoming the change that you are trying so hard to bring into the society? Is it really something or someone or just the idea of 'feeling limited' itself that is holding you back from being what you want to become? Or do you even know what you want to achieve? I think we need to look beyond the limiting beliefs we hold for ourselves before fighting with the world outside. 

I would be happy and celebrate if there are more women believing in themselves, more women taking new challenges, more women accepting the way they are, more women helping and motivating others, more women standing for women and standing for righteousness.

But this idea of telling every female human that they are special because they can give birth or they can tolerate pain or just because they and their kinds have been victims is disturbing to me. While there is nothing wrong in celebrating the good things about yourself, but women are falling in this trap of pink balloons, chocolates and personalized messages from brands and credit card companies. Its making them lose their direction. Women need to be reminded that only things you are entitled for is what you earn just like men or any other gender or any other sex.

Let's make this celebration justified.


Saturday, 17 June 2017
छोटी सी एक कहानी हूँ, बस यूँ ही आनी जानी हूँ
हूँ आज यहाँ कल नहीं रहूँ
किसने जाना, किससे ये कहूँ
लेकिन दिल की ये बात सुनो दोस्त किसी से कहना, मेरी अंतिम इच्छा सुन लेना
मेरी अंतिम इच्छा सुन लेना

हाँ लोग करेंगे याद मुझे, अफसोस करेंगे मुझपर
आँखों से बहा देंगे रोकर, जैसे मैं बोझ हूँ उनपर
पर तुम मुझको कोई ख्वाब बनाकर अपनी पलकों में रख लेना
लेकिन दिल की ये बात सुनो दोस्त किसी से कहना

दिल टूटेंगे भी अपनों के, इलज़ाम लगेंगे  पर मुझ पर
क्यूँ मैंने छोड़ा साथ सभी का, दो चार कदम तक चल कर
फिर भी तुम मुझको कोई दोस्त बनाकर मुश्किल राहों में चल देना
लेकिन दिल की ये बात सुनो दोस्त किसी से कहना

यूं याद करना क्यूँ साथ तुम्हारे, अभी नहीं इस पल हूँ
या भूल जाना ये कह कर, के मैं इक गुज़रा कल हूँ
करना कुछ बातें हंस कर मुझसे, मुस्कान बना कर रख लेना
लेकिन दिल की ये बात सुनो दोस्त किसी से कहना


मेरी अंतिम इच्छा सुन लेना

- Shubh
Friday, 16 June 2017



मेरे छाते की तीली से बारिश की इक बूँद, चेहरे पे जो टपकी,
तो न जाने क्यूँ वो बेवजह पानी को छपछपाना याद आ गया |

उड़ती हुई बौछारों ने कंधे को छुआ,
तो घर के आंगन में पहली बरसात का नहाना याद आ गया |

वो दुआरे के नीम का मानो खिड़की को छुपाने के लिए झुक जाना,
वो मेंढकों की टोली का हम बच्चों के सुर में सुर मिलाना,

छोटी बड़ी बूंदों को लय में गिरते देखना, लहरें बनाना,
वो पेड़ों का भी संग संग झूम जाना याद आ गया |

चिल्ला चिल्ला के दोस्तों को दूर से बुलाना, कुछ ऊट पटांग गाना,
और बूंदों के शोर में उनका कुछ न सुन पाना,

डूबी गलियाँ, इस मोहल्ले से उस मोहल्ले के रस्ते भी डूबे,
कुछ देर के लिए दोस्तों से न मिल पाना याद आ गया |

वो तूफ़ान से बेज़ार हुए नन्हे पौधे को बचाने जाना,
और दोबारा भीग जाने के लिए डांट खाना,


वो छोटे शहर की कीचड भरी सड़कें, और सड़कों पे भरे लोग,
बारिश के बाद फिर उन्ही सड़कों पर, हाथ छोड़ कर साइकिल चलाना याद आ गया |


बारिश में कहाँ आएगी आज बिजली भला ! न पढ़ने का एक और बहाना,
देर रात लालटेन में होमवर्क ख़त्म करना, और अनजाने में बालों को जलाना याद आ गया |

चाक का डब्बा और डस्टर भीगे, ब्लैकबोर्ड पे पड़ीं पानी की लकीरें,
फिर टीचर का हम सबको कोलम्बस की कहानियाँ सुनाना |

साफ़ सुथरे आसमान में होते थे बादलों के रंग बिरंगे करतब,
ये सोच कर शहरों में शाम से पहले सूरज का छिप जाना याद आ गया |

अपनी ब्रांडेड बेलीज़ को कीचड से बचाते हुए जब गाड़ी में बैठी
तो स्कूल पहुँचते पहुँचते वो जूतों में पानी भर जाना याद आ गया |

कंधे पे रखे लैपटॉप पे गिरीं कुछ पानी की बूँदें,
के अचानक हर सोमवार का ऑफिस जाना याद आ गया |

वो बचपन में खुद को कोलम्बस, सिकंदर, राजा पुरु समझना,
और आज यूँ भीड़ में गुम हो जाना याद आ गया|

-    Shubh






Tuesday, 6 June 2017


ये कैसा ठहराव, के हूँ बस मैं ही मैं
राहों ने बदली मंज़िल या भटक बस मैं ही मैं
ये कैसा ठहराव,
के हूँ बस मैं ही मैं

हैं लोग बहुत इस दुनिया में, कुछ खास मेरे अपने हैं
वादे-नाते-रिश्ते हैं, कच्चे पक्के सपने हैं
कोई तो है मैं सच कहता हूँ, नींदों से जग जाता है
फिर क्यों लगता है जगने पर,
के हूँ बस मैं ही मैं

ये कैसा ठहराव,
के हूँ बस मैं ही मैं

जाने कब कैसे कैद हो गया, कांच की इन दीवारों में
सब देख रहा हूं, खुद अनदेखा सा बन के बैठा अंधियारों में
कोई आके मुझसे कह देता, ये सज़ा तुम्हारी है
पर किसे भला दोषी ठहराऊँ
के हूँ बस मैं ही मैं

ये कैसा ठहराव,
के हूँ बस मैं ही मैं

राहों ने बदली मंज़िल, या भटक बस मैं ही मैं,
ये कैसा ठहराव !
ठहराव

समय चला,
अपनी गति से, हर पल,
किसी चोट पर, किसी जीत पर
थमा नहीं, न रुका
मगर,
जब ठहरा ये मन, सूनेपन में, तो पाया
कुछ तो है जो मुहे गतिज भी ठहरा सा लगता है|
कोई रिश्ता बंधा नहीं जो कभी कहीं परिभाषाओं में,
कोई गीत मधुर सा बचपन की टूटी फूटी आशाओं में,
और छिपी कहीं कोई बात अन कही आँखों की भाषाओँ में,
मैं चलूँ उधर,
हाँ जिधर मेरा
ये ह्रदय करे, उस ओर
मगर,
मन पे मुझको निर्बाध सदा यादों का पहरा लगता है|
कुछ तो है जो मुझे गतिज भी ठहरा सा लगता है|

कोई प्यारा सपना पलकों में जो सच के प्रहार से टूटा था,
ले नहीं सका मेरा कोमल मन प्रतिशोध कोई जो छूटा था,
या दबा हुआ कोई विचार बीज जिसमे न अंकुर फूटा था,
मैंने देखा है, दुनिया का
असीम रूप, जंजालों में,
बिखरा जीवन का आलेख
मगर,
इन अनियंत्रित सीमाओं में भी मन सिमटा सा लगता है|
कुछ तो है जो मुझे गतिज भी ठहरा सा लगता है|


Saturday, 3 June 2017


जीवन दिखता है..


जीवन दिखता है सड़कों पर, दौड भाग करते
जैसे
कुछ खोया, पाया नहीं
अनंत काल से, समय बाँध लेने की चाहत में,
आतुर से|
ओढ़े हुए अनकहे मौन की चादर,
लिए साथ में स्वार्थ और आडम्बर, कई कई संख्या में यहाँ
जीवन दिखता है सड़कों पर, दौड भाग करते|

जैसे
भूखे उदरों की ज्वाला से प्रेरित हो हो कर
लड़ते हुए खुद से या प्रकृति से, या नियति से
कुछ लेते, कुछ देते, ठेलों पर, सडको पर
फुटपाथ पर, कागज के चिथड़ों में,
टूटे हुए कांच के टुकड़ों में, खोजते हुए
कभी न मिलने वाली खुशियाँ
जीवन दिखता है सड़कों पर, दौड भाग करते

जैसे
फूल बिना खुशबू के, रंगों के
कुचले हुए से
शीशे पर पानी के छींटों से, बचपन के कुछ अंश लिए हुए
भय से पुती हुई आवाजों से हँसते, बिना कहे
अनुत्तरित, अगणित प्रश्नों को कहते
सच्चाइयों में जीते, सच को सहते
सब सो जाते हैं लेकिन
अंधकार की परतों में
जीवन दिखता है सड़कों पर, दौड भाग करते|

- Shubh


शूरवीर


आशाओं की इक डोर सदा, जो अपने हाथों में पता है
वही जीव तो मनुज मात्र से, बली विजेता बन जाता है

क्रूर काल के कर्कश स्वर जब विष भरते हैं कानो में
और विश्वासों के वृक्ष डोलने लगते हैं तूफानों में
ऐसे में भी उसे तृणों का अवलम्बन मिल जाता है
वही वीर फिर तूफानों का शाषक बन कर आता है
आशाओं की इक डोर सदा, जो अपने हाथों में पता है
वही जीव तो मनुज मात्र से, बली विजेता बन जाता है|

आशाओं की इक डोर सदा, जो अपने हाथों में पता है
वही जीव तो मनुज मात्र से, बली विजेता बन जाता है

- Shubh